एंजेलिसमिशन के एक आधुनिक ऋषि

काया एक शिक्षक, लेखक तो हैं ही,   साथ ही वे स्वर्गदूतों से बातचीत के, उनके सपनो , उनके लक्षणों  और  प्रतीकों पर दुनिया भर के 43 देशों से अधिक देशों में व्याख्या देने वाले अंतर्राष्ट्रीय व्याख्याता है। वह एक गैर लाभ संगठन यू. सी. एम. के स्कूल और  प्रकाशन हाउस के अध्यक्ष-संपादक और संस्थापक हैं । उनके परोपकार की भावना, अनुकरणीय भक्ति और मानवीय सहायता इस ग्रह पर लाखों लोगों के लिए प्रेरणा का एक स्रोत बन गए हैं। उनमे यह व्याख्या करने की  क्षमता है कि कैसे मानव विवेक ज्ञान और समझ के एक असाधारण स्रोत कि सांकेतिक भाषा के माध्यम से काम करता है । वे एक उत्कृष्ट अध्यापक और व्याख्याता हैं, काया हमें हमारी अंतरात्मा की आवाज के साथ हमारी असीम एंजेलिस संभावनाओं की स्वायत्तता को समझने में मदद करते है। उनके  लिए, एक एंजेल एक व्यक्ति का प्रतीक है  जो सपने देखता  है और जो उसकी अंतरात्मा की आवाज के साथ यात्रा करता है । उनके लिए जो एक दिन स्वयं को खोजते हुए अपनी असीम शक्तियों को हमारे मानवीय अंतःकरण के भौतिक और आध्यात्मिक बहु आयाम के  साथ पहचान जाते हैं ,वे लोग कौन हैं और क्या हैं इसको बताने वाले वे एक आदर्श रूपक है ।


उनका जीवन पथ और उनकी  गहन आध्यात्मिक यात्रा एक प्रेरणा है, वह एक प्रशंसापत्र भी है जो हममे से प्रत्येक को ये बताने के लिए है कि हमारे अंदर भी वह शक्ति और क्षमता है जिससे हम किसी का जीवन रूपांतरण कर सकते हैं या फिर से बना सकते हैं ।अतीत से आज के आधुनिक दार्शनिक बनते हुए काया की कहानी जीवन में किये गए उन अंतर प्रेरणाओं और परिवर्तन का नेतृत्व करती है जो उन्होंने किये।

और परिवर्तन का नेतृत्व करती है जो उन्होंने किये।

नब्बे के दशक के दौरान उन्होंने आत्ममंथन करना शुरु किया , खुद को जानने समझने के लिए अपने पर काम करना शुरु किया जो कई वर्षों तक चलता रहा,अपने सपनों को उन्होंने विधिवत समझने का प्रयास शुरु किया ताकी वे अपने बुरे सपनों पर से पर्दा हटा सके और उनका कारण पता कर सके उनपर प्रकाश डाल सकें।अंत में वे अपने मन की अंदर की शांति के वातावरण से बाहर निकले । इस अवधि ने उन्हें सपनों के क्षेत्र में गहराई से अध्ययन करने के लिए प्रेरित किया।

. वैश्विक मेलजोल में विश्वास ,गहरी धारणा की संभावना और संयोग जैसा कुछ भी नहीं है , काया के आध्यात्मिक पथ के प्रमुख तत्व हैं। अपनी किस्मत के रास्ते पर चलते हुए उनकी मुलाकात क्रिस्टियान मुलर से हुई जो आगे चल कर उनकी पत्नी बनीं और उनके जीवन को एक नई दिशा मिली।काया को मुलर का जीवन और उनके भीतरी प्रश्नों में खुद से समानता मिली जिससे उन्हें एक तरह की सांत्वाना मिली । दो साल बाद उनकी गहरी दोस्ती प्यार में बदल गई और दोनों ने शादी कर ली।दोनों ने एकसाथ कई किताबें लिखीं जिनमें से कई बेहद लोकप्रीय हुईं और उनका अनुवाद कई भाषाओं में किया गया।

     साल 2001 में काया और क्रिस्टियान ने साथ में युनिवर्सिटी/शहर माइकेल(यूसीएम) नाम से गैर लाभकारी स्कूल और पब्लिशिंग हाउस की स्थापना की।उसी समय से लेखकों, निर्माताओं, संपादकों और अनुवादकों की टीम ने पूरे विश्व में यूसीएम का नाम स्थापित किया। इस टीम का हिस्सा विश्व के कई देश बने।साल 2010 में काया, क्रिस्टीन,डॉ.फ्रैनकाइस बुकर्ड और उनकी पत्नी ने एंजलिका प्रेटिका क्लीनिक की स्थापना की जिसमें विश्व के कई देशों से करीब 1000 मरीज़ प्रतिदिन भर्ती होते हैं। क्लिनिक एन्जिल्स के साथ काम करने के अलावा शारीरिक और आध्यात्मिक स्तर पर एक नया प्रतीकात्मक दृष्टिकोण का उपयोग करके समग्र स्वास्थ्य उपचार प्रदान करता है।

सपने-संकेत-प्रतीकों को समझने का प्रशिक्षण डॉक्टरों, चिकित्सकों एवं शिक्षकों को कनाडा और यूरोप में मार्च 2014 से दिया जा रहा है।भारत में ये प्रशिक्षण मार्च साल 2015 में शुरु होगा।काया भारत और दूसरे देशों में करीब 15,000 बच्चों को मुफ्त शिक्षा प्रदान कर रहे हैं।.

बहुत से स्कूल इस अद्भुभुत एंजलिका स्कूल प्रोग्राम को अपना रहे हैं।काया ने हाल ही में सपनों-चिह्नों-प्रतीकों पर एक शब्दकोश ‘द सोर्स कोड’ जारी किया है जिसका इंतजार कई सालों से था। इस किताब पर काया ने 15 सालों कर काम किया है , बाद के 3 सालों में उनके अध्ययन में उनका साथ 100 लोगों की टीम ने दिया जिसमें डॉक्टर, शिक्षक, चिकित्सक शामिल थे। 

लेखक काया की मांग अध्यक्ष,संपादक, शिक्षक और व्याख्याता के तौर पर पूरे विश्व में है।आप उनसे अंतर्राष्ट्रीय ड्रीम वेबनायर पर साप्ताहिक या मासिक तौर पर मिल सकते हैं और उनसे सपनों-चिह्नों-प्रतीकों के बारे में सीख ले सकते हैं।